Skip to main content

बीते 40 सालों में 400% बढ़ गया है धरती का तापमान

 आदमी अपना ही दुश्मन बन बैठा। प्रकृति से छेड़छाड़ भारी पड़ी।



इतिहास में पहली बार 45 डिग्री से ऊपर गया कनाडा का पारा
इस वक्त कनाडा में हीट डोम यानी ऐसी लू चल रही है, जैसी 10 हजार साल में शायद एक बार किसी देश में चलती है। इसके कारण जिस कनाडा में औसत तापमान 16.4 डिग्री सेल्सियस रहता था, वहां का पारा 49.6 डिग्री तक पहुंच गया है। इससे पहले जुलाई 1937 में कनाडा के कई हिस्सों का तापमान 45 डिग्री तक पहुंचा था। अब 84 साल बाद एक बार फिर गर्मी का कहर टूटा है और स्कूल-कॉलेज, यूनिवर्सिटी, ऑफिस, टीका सेंटर बंद कर दिए हैं। गर्मी से 400 से ज्यादा लोगों के मरने की खबर है।

वैंकूवर, पोर्टलैंड, इडाहो, ओरेगन में सड़कों पर पानी का फव्वारा छोड़ने वाली मशीन लगा दी गई है। जगह-जगह कूलिंग स्टेशन खुल रहे हैं। वैंकुवर के करीब 5 हजार लोगों की क्षमता वाले कूलिंग सेंटर और एसी वाले सिनेमा हॉल अगले 10 दिन तक हाउसफुल हैं।


100 साल बाद अमेरिका के 'कश्मीर' सिएटल का पारा 44 डिग्री तक चढ़ा
वॉशिंगटन के कश्मीर कहे जाने वाले सिएटल का पारा जून के आखिरी सप्ताह में 44 डिग्री तक पहुंच गया। यहां बीते 100 सालों में ऐसा नहीं हुआ था। अमेरिका के प्रशांत उत्तर-पश्चिमी क्षेत्र में बिजली नहीं दी जा रही है। दोनों जगहों पर लू और गर्मी इतनी ज्यादा है कि पॉवर सप्लाई करने पर आग लगने के आसार बढ़ जाते हैं। यहां रहने वाले सवा दो लाख लोग बिजली कटौती का सामना कर रहे हैं। बिना बिजली के वो खुद को ठंडा रखने के लिए एसी या दूसरी चीजें भी नहीं चला पा रहे हैं।

5 सवाल-जवाब से समझिए कनाडा-US में क्यों बने हैं प्रेशर कूकर में उबलने जैसे हालात


1. कनाडा और अमेरिका में अचानक इतनी भयानक लू क्यों चल रही है?

इसके पीछे उच्च दबाव वाले 2 सिस्टम हैं। मौसम में सिस्टम का मतलब आप समझते हैं? जैसे हम आम कामों के लिए एक सिस्टम बनाते हैं। वैसे ही अगर मौसम में किसी खास किस्म की बात नजर आने लगे तो उसे सिस्टम कहते हैं। फिलहाल उच्च दबाव वाले जो 2 सिस्टम बने हैं, उनमें 2 जगहों से बहुत गर्म हवाएं आ रही हैं। ये जहां से गुजर रही हैं, वहां आग बरसने जैसा माहौल बन रहा है।


पहली गर्म हवा अलास्का के अलेउतियन द्वीप समूह से आ रही है और दूसरी कनाडा के जेम्स बे और हडसन बे से। ये गर्म हवाएं इतनी तगड़ी हैं कि इनके सिस्टम के अंदर ठंडी समुद्री हवा घुस ही नहीं पा रही हैं। इसे आप ऐसे समझ सकते हैं कि जिस तरह प्रेशर कूकर के अंदर बेहद गर्म हवाएं रहती हैं, उसके आसपास ठंडी होती है, लेकिन वो प्रेशर कूकर के अंदर नहीं जा पाती। अमेरिका का उत्तर प्रशांत क्षेत्र और कनाडा का ‌‌ब्रिटिश कोलंबिया वाला हिस्सा फिलहाल प्रेशर कूकर के अंदर चीजें जैसे उबलती हैं, वैसे महसूस कर रहा है।



2. क्या पहले भी ऐसा होता रहा है?

पहले 10 से 30 साल में एक बार उच्च दबाव वाला सिस्टम बनता था, लेकिन इतना तगड़ा नहीं। इसीलिए इसे आम हीट वेब के बजाय हीट डोम कहा जा रहा है, जो 10 हजार साल में एक बार बनता है।


3. ये कितना खतरनाक है?

आज तक इतनी गर्मी कनाडा में नहीं पड़ी थी। 65 साल से अधिक वाले 22 करोड़ लोग फिलहाल भयानक खतरे का सामना कर रहे हैं। अभी इससे निपटने का कोई तरीका भी नहीं है। आग लगने और सूखा पड़ने का भी खतरा मंडरा रहा है।


4. इसके थमने के आसार कब तक हैं?

15 जुलाई तक तो कोई बदलाव नहीं होगा। इससे पूरी दुनिया के तापमान पर बुरा असर पड़ सकता है। अभी इसके जाने को लेकर कोई भविष्यवाणी करना कठिन है। समुद्र से सटे पश्चिमी किनारे लगातार कई दिनों तक गर्म रह सकते हैं।



5. क्या ये मामला सीधा ग्लोबल वॉर्मिंग से जुड़ा है? दुनिया के अलग-अलग हिस्सों में प्रकृति को इंसान जो नुकसान पहुंचा रहे हैं, वही इन सबके लिए जिम्मेदार हैं?

बिल्कुल। साल 1900 की तुलना में फिलहाल धरती का पारा 2 डिग्री के आसपास बढ़ गया है। पूरी दुनिया लगातार गर्म होती जा रही है। हम एक्सट्रीम वेदर कंडीशन की ओर बढ़ रहे हैं।


हालांकि कनाडा और अमेरिका की मौजूदा घटनाओं की एक बड़ी वजह पश्चिमी अमेरिका का सूखा भी है। सूखे के वक्त सूरज की रोशनी सीधे धरती को गर्म करती है। इस क्षेत्र में जब सामान्य हवा भी चलती है तो वो लू बन जाती है। समुद्र किनारे लगातार हवा चलती है, तब लू का एक सिस्टम बन जाता है। आसमान में पहुंचकर ये अजीब किस्म का दबाव बनाती है, जो बेहद खतरनाक होता है।


पूर्वी यूरोप रिकॉर्ड तोड़ लू से परेशान, मास्को में 120 सालों बाद तापमान 35 डिग्री

इस साल पूर्वी यूरोप के देश हंगरी, सर्बिया और यूक्रेन तप रहे हैं। द गॉर्जियन में छपी एक स्टडी कहती है कि ये क्लाइमेट चेंज का असर है। हर साल इन देशों में गर्मी बढ़ती जा रही है। यहां के मौसम विभाग ने अलर्ट जारी कर यह भी कहा है कि आने वाले दिनों में भयानक बारिश के संकेत दिख रहे हैं।


बीते 40 सालों में पृथ्‍वी इतनी तेजी से गर्म हुई, जितनी 100 साल में नहीं होती


धरती के तापमान में हर 40 से 60 साल के बीच कुछ बदलाव दिखते हैं। 1880 में धरती का तापमान माइनस 0.2 डिग्री था। 60 साल बाद 1940 में पहली बार यह 0 डिग्री पर पहुंचा था। इसके ठीक 40 साल बाद 1980 में पहली बार पारा 0.2 डिग्री से ऊपर गया। यानी 100 साल में पारा माइनस 0.2 से 100% बढ़कर प्लस 0.2 हो गया। लेकिन 1980 के बाद के 40 साल यानी 2020 तक धरती 1 डिग्री गर्म हो गई। यानी बीते 40 साल में ठीक उसके पहले के 40 साल की तुलना में 400% तापमान बढ़ा है।



जर्मनी में भारी आंधी-तूफान और बाढ़ का खतरा मंडरा है। मौसम वैज्ञानिक रिचर्ड बैन कहते हैं जर्मनी का मौसम बीते 10 सालों में एक्सट्रीम वेदर कंडीशन की ओर बढ़ रहा है। यहां अचानक से भारी बारिश और लगातार काफी दिनों तक बारिश न होने के आसार हैं। इसके पीछे की वजह जलवायु परिवर्तन है। रूस की राजधानी मास्को 1901 के 120 साल बाद 34.8 डिग्री तक गर्म हो गई। साइबेरिया का तापमान 30 डिग्री पर पहुंच गया है।


न्यूजीलैंड में इतनी ठंड पड़ रही है कि राजधानी में आपातकाल लगा दिया गया है

जून के आखिरी हफ्ते और जुलाई के शुरुआती 2 दिनों में न्यूजीलैंड में 8 इंच से ज्यादा बर्फ पड़ी। 55 साल बाद न्यूजीलैंड का तापमान जून-जुलाई में -4 डिग्री तक पहुंचा। इस वक्त यहां का औसत तापमान 11-15 डिग्री होता है। 3 जुलाई की हालत ये है कि राजधानी वेलिंगटन में आपातकाल की घोषणा हो चुकी है। समुद्री किनारों पर 12 मीटर ऊंची लहरें उठ रही हैं। इनके चलते अगले कुछ दिनों में और ज्यादा बारिश हो सकती है। पारा भी और गिर सकता है। इसकी वजह आर्कटिक ब्लास्ट है।



अंटार्कटिका में कभी इतनी ठंड कि आर्कटिक ब्लास्ट हो गया, कभी रिकॉर्ड गर्मी

दुनिया के लिए इस वक्त बड़ी चुनौती अंटार्कटिका का मौसम बना हुआ है। पृथ्वी के बढ़ते तापमान को अंटार्कटिका ठंड संतुलित करती है। अंटार्कटिका महासागर का औसत तापमान -80 डिग्री होता है। फिलहाल उससे भी नीचे चला गया है। इसके कारण इससे सटे देशों में बर्फीले तूफान चल रहे हैं। कुछ हिस्सों में मोटी बर्फ की चादर बन गई थी, जो जून में अचानक फट गई। इसे आर्कटिक ब्लास्ट कहते हैं। इससे सबसे ज्यादा प्रभावित न्यूजीलैंड हुआ है।



सिर्फ एक साल पहले दुनिया के मौसम का हिसाब-किताब रखने वाले WMO ने बताया था कि अंटार्कटिका के बर्फ के पहाड़ों में तापमान बढ़ रहा है। 1983 के 19.8 डिग्री तापमान के बाद 2020 में पहली बार यहां तापमान 20 डिग्री तक पहुंच गया था। अगर यहां के ग्लेश‌ियर पिघलने शुरू हो गए तो समुद्र में बढ़ा पानी धरती पर तबाही मचा देगा।


2021 का सबसे ज्यादा गर्म देश कुवैत है, 53 के पार था तापमान

दुनिया में 2021 का सबसे ज्यादा गर्म दिन 22 जून था। जब कुवैत का पारा 53.2 हो गया था। जून और जुलाई के शुरुआती 3 दिनों में ईरान, इराक, सऊदी अरब, स्वीडन और ओमान जैसे देशों का तापमान 50 डिग्री सेल्सियस से ऊपर पहुंचा। इसके अलावा जॉर्डन, मिस्र, सूडान, कतर और अफ्रीकी देश सूडान का तापमान 47 डिग्री से ज्यादा रहा।



इन देशों की गर्मी की चर्चा ज्यादा नहीं होती, क्योंकि यहां पहले भी तापमान चढ़ता रहा है। आंकड़े बताते हैं कि साल 1900 तक गर्मी के महीनों में यहां का पारा 40 डिग्री से ज्यादा होता था, बीते 100 सालों में ये 50 ‌डिग्री के ऊपर जाने लगा है। ये भारत के लिए खतरनाक है।


अरब के देशों के गर्म होने से भारत को नुकसान

खाड़ी के देशों के तेजी से गर्म होने का असर भारत और पाकिस्तान पर पड़ता है। हाल ही में भारत में 'ताऊ ते' और 'यास' आए थे। ये दोनों तूफान अरब सागर से आए थे। पहले ज्यादातर तूफान बंगाल की खाड़ी से आते थे। इससे भारत की बारिश ज्यादा प्रभावित नहीं होती थी, लेकिन अरब सागर से आए तूफान भारत के मौसम की नमी को खींचकर सऊदी अरब की ओर ले जाते हैं।


स्काईमेट के महेश पहलावत कहते हैं कि पहले अरब सागर के तूफान दो साल में एक बार आते थे, अब एक साल में दो-दो बार आने लगे हैं। यह खतरनाक है। इससे अगले पांच सालों में भारत में बारिश बुरी तरह प्रभावित होगी। कभी एकदम बेतहाशा बारिश होगी तो कभी भयंकर सूखा पड़ेगा। यही वजह थी कि 29 जून को पाकिस्तान के सिंध प्रांत के जैकबाबाद में पारा 52 डिग्री तक पहुंच गया। 1 जुलाई, 2021 को दिल्ली का तापमान 43.6 डिग्री पहुंच गया।

Comments


  1. It’s very helpful. Thanks.
    National Hospital is one of the Best Hospital in Chittagong. We have all the hospital facilities. We have Experience and Quality Doctor. We have
    24 Hours of Emergency Support. We also have 24 hours SIGMA LAB FACILITY. We try to provide the best service.

    ReplyDelete

Post a Comment

Popular posts from this blog

Mahatma Gandhi Adopted Feroze Khan For Indira Marriage & Gave "Gandhi" Surname

Mahatma Gandhi Given His Surname To Indra as "Gandhi" Nehru-Khan-Gandhi Dynasty : Jawaharlal Nehru was the first prime minister of modern India, and he ruled the country from 1947 to 1964.  He was born on 14th November 1889, to Motilal and Swarup Rani Nehru.  The family belonged to a Kashmiri Brahmin tribe called ‘ Pandit.’   Indira Gandhi, daughter of Jawaharlal Nehru, became prime minister of India in 1966. Mrs. Gandhi was born on November 19, 1917 to Jawaharlal and Kamala Nehru.  She was named Indira Priyadarshini Nehru. She fell in love and decided to marry Feroze Khan, a family friend. Feroze Khan’s father, Nawab Khan, was a Muslim, and mother was a Persian Muslim.  Jawaharlal Nehru did not approve of the inter-caste marriage for political reasons (see  http://www.asiasource.org/ society/indiragandhi.cfm ).  If Indira Nehru were to marry a Muslim she would loose the possibility of becoming the heir to the future Nehru dynasty.  At this juncture, a

FDA Maharashtra Directory Contact Moblie Number

Food and Drug Administration Directory  DOWNLOAD JUNE 2021 CONTACT LIST Field Office Circle Head (Assit Commissioner Address of Field Office Inspector AHMEDNAGAR A.T. RATHOD (7045757882) 19C, Siddhivinayak Colony,,Near Auxillium School, Savedi,,Ahmednagar - 414003 J.H.SHAIKH (9158424524) AKOLA H. Y. METKAR (9730155370) Civil Line, Akashwani Road, ,Akola ,AKOLA H. Y. METKAR (9730155370) AMARAVATI U.B.GHAROTE (9595829895) Office of the Joint Commissioner,Jawade Compound, Near Bus Stand,Amrawati-444 601 C. K. DANGE (9422844477) AURANGABAD S. S. KALE (9987236658) Office of the Joint Commissioner,,2nd floor, Nath Super Market, Aurangpura,Aurangabad R. M. BAJAJ (9422496941) AURANGABAD Zone 2 M.K.KALESHWARKA R (9423738922) Office of the Joint Commission

RTE & School Quota Of Kalyan Dombivli KDMC Region Thane

 Kalyan Dombivali Municipal Region School Quota and RTE 25% quota details received from RTI reply from KDMC Education department. Almost in all the schools free education seats for income below Rs1lac is vacant .The vacant seats are illegally filled by private school in open category by private schools by taking donations. KDMC education didnot taken any action. Total approved strength of class is 4 times of RTE quota. If RTE 25% quota is 25 then approved students limit is 100 students. Means 75 students from general and 25 from RTE 25% quota. In all the schools students are more than from approved strength and RTE 25% seats are vacant. It means RTE seats are filled by general students. As per RTE Act 2009 poor quota seats ie RTE25% cannot be filled by general quota in any condition and at any class. Helpline 9702859636  RTE Admission